गोपालगंज सदर अस्पताल में शनिवार की रात इलाज के अभाव में एक मरीज की मौत हो गई.

0
80

परिजनों का आरोप है कि मरीज को आईसीयू में भर्ती कराया गया था. पर उसे देखने के लिए डेढ़ घंटे तक कोई डॉक्टर नहीं आया. जिसकी वजह से मरीज की मौत हो गई. उसे सांस की परेशानी थी. सिविल सर्जन डॉ वीरेंद्र प्रसाद ने कहा कि एक डॉक्टर की ड्यूटी खत्म हो गई थी और दूसरे डॉक्टर के पहुंचने में विलंब हुआ, जिसके कारण परिजनों ने हंगामा किया है.

गोपालगंज. गोपालगंज सदर अस्पताल में शनिवार की रात इलाज के अभाव में एक मरीज की मौत हो गई. मौत के बाद परिजनों ने जमकर बवाल किया. इमरजेंसी वॉर्ड में तोड़फोड़ की गई. इससे अस्पताल में अफरातफरी मच गई. मृतक मरीज का नाम अली इमाम है. वह थावे थाना क्षेत्र के पैठानपट्टी गांव में रहनेवाले साहिन मियां का बेटा था. घटना के बाद अस्पताल परिसर पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है.

दरअसल अस्पताल में तोड़फोड़ की सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने 3 लोगों को हिरासत में लिया है. परिजनों का आरोप है कि अली इमाम को सांस लेने में तकलीफ हुई थी, उसके बाद उसे अस्पताल लाया गया था. यहां उसे इमरजेंसी वॉर्ड में भर्ती कराया गया. लेकिन डेढ़ घंटे तक कोई डॉक्टर उसे देखने नहीं आया. इस तरह इलाज के अभाव में अली इमाम की मौत हो गई.

जैसे की बताया जा रहा है कि इमाम अली की मौत से बिफरे परिजनों ने सदर अस्पताल में तोड़फोड़ और बवाल शुरू कर दिया. इसकी सूचना मिलेते ही एडीएम बीरेंद्र प्रसाद, एसडीएम प्रदीप कुमार, सदर एसडीपीओ संजीव कुमार, बीडीओ और सीओ के अलावा नगर इंस्पेक्टर ललन कुमार भी मौके पर पहुंचे. पुलिस ने हंगामा कर रहे 3 लोगों को हिरासत में ले लिया है.