भारत में पहली बार बना था इस महिला का आधार कार्ड , आधार के वजह से मिला था यह फायदा

0
100

भारत में आज आधार कार्ड लोगों के जीवन का एक अहम् हिस्सा बन चूका है । आज लगभग सभी कागजी कार्रवाइयों में लोगों को आधार कार्ड की जरुरत पड़ती है । आधार कार्ड भारत सरकार द्वारा भारत के नागरिकों को जारी किया जाने वाला पहचान पत्र है। इसमें 12 अंकों की एक विशिष्ट संख्या छपी होती है जिसे भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण जारी करता है ।आज आधार प्रत्येक भारतीय नागरिक की एक पहचान बन चूका है पर क्या आपको पता है की भारत में सबसे पहला आधार किसका बना था आखिर वो कौन सेक्स था जिसने पहला आधार कार्ड बनवाता था अगर नहीं तो आइये हम बताते हैं की वो कौन सख्स था जिसका नाम पहले आधार कार्ड पर छपा था ।

दरसल महाराष्ट्र के नंदुरबार जिले के तंभाली गांव की रहने वाली एक महिला का नाम पहली बार आधार कार्ड पर छपा था । इस महिला का नाम रंजना सोनावने है , रंजना आठ साल पहले सुर्खियों में आई थीं। वह देश की पहली ऐसी नागरिक हैं, जिन्हें आधार नंबर मिला था उनका कहना है की इस आधार नंबर के वजह से ही उन्हें एलपीजी कनेक्शन मिल पाया था । साल 2010 में रंजना को आधार कार्ड मिलने के बाद ही उनके पति और बच्चों को भी आधार नंबर मिला। वह और उनके पति सदाशिव खेतों में मजदूरी करते हैं। रंजना का कहना है की अब उनके गावं के सभी 1505 लोगों के पास आधार कार्ड है । बहरहाल आज देश के लगभग हर 5 साल से ऊपर के बच्चे और एडल्ट नागरिक के पास आधार कार्ड है ।