वोटिंग के दौरान नहीं हो पा रही बायोमेट्रिक ,वोटर्स को करना पड़ रहा है इंतजार

0
15

बिहार पंचायत चुनाव में गड़बड़ी रोकने के लिए इस बार चुनाव आयोग ने डिजिटलाइजेशन का सहारा लिया है । वो बात चाहे evm की हो या वोटर्स की बायोमेट्रिक की हो चुनाव आयोग इन डिजिटल डिवाइस का प्रयोग कर चुनाव में गड़बड़ी होने से रोकने की कोशिश कर रहा है । पर कई चुनाव बूथों पर ये डिजिटल डिवाइस काम ही नहीं कर रहें है जिससे वोटिंग की प्रक्रिया में दिक्कत आ रही है । दरअसल मतदान के दौरान इलेक्ट्रॉनिक गैजेट टेबलेट ( टैब) के डिस्चार्ज होने के कारण बूथों पर मतदाताओं की बायोमेट्रिक जांच में बाधा हो रही है। कई बूथों के पीआरडियों ने इसकी शिकायत चुनाव आयोग से की है ।

आकड़ों के अनुसार ४० फीसदी से भी ज्यादा बूथों पर बायोमेट्रिक के दौरान टेबलेट्स के डिस्चार्ज और सही तरीके से काम न करने की खबर आई है ,जिसके वजह से वोटर्स के बायोमेट्रिक में दिक्कत आ रही है । आपको जानकारी के लिए बता दे की चुनाव में धांधली न हो इसके लिए चुनाव आयोग ने बायोमेट्रिक सिस्टम का उपयोग कर रही है जो किसी फ़ोन या सरकार द्वारा दिए गए टेबलेट से कण्ट्रोल होता है । कोई ब्यक्ति तभी वोट देगा जब उसका बायोमेट्रिक प्रोसेस पूरा होगा । हालाँकि चुनाव आयोग ने सभी जिलों के जिलाधिकारी सह जिला निर्वाचन पदाधिकारी,और पंचायत को निर्देश दिया है कि सभी बूथों पर टेबलेट को चार्ज करने की लिए बिजली ,चार्जर और चार्जिंग पॉइंट उपलब्ध कराये ।