14 अगस्त , आजादी या इतिहास का सबसे काला दिन

0
29

आज 14 अगस्त है ,भारत के स्वतंत्रादिनों में दिवस के ठीक एक दिन पहले का दिवस । एक तरह से कहा जा सकता है की भारत के सबसे काले दिनों में से एक । दरअसल 14 अगस्त 1947 को ही भारत और पाकिस्तान अलग हुए थे । पाकिस्तान आज अपना स्वाधीनता दिवस मनाता है । पाकिस्तान और हिन्दुस्तान के सत्ता का हस्तांतरण ठीक मध्यरात्री को हुआ था। और आज के ही दिन मुहम्मद अली जिन्ना को पाकिस्तान का गवर्नर जनरल बनाया गया था । हालाँकि भारत से टूट कर एक अलग देश पाकिस्तान का बनाना लगभग तय हो चूका था केवल कागजी करवाई होनी बाकी थी जो 14 अगस्त 1947 को संपन्न हुई । जिसके बाद भारत 15 अगस्त यानी कल अपनी स्वतंत्रता दिवस मनाता है । वैसे तो कई कारण है भारत और पाकिस्तान के विभाजन के पर जो प्रमुख कारण माना जाता है वो अग्रेजो का फुट डालो और शासन करो की निति है । अंग्रेजों ने हिन्दू मुश्लिम में इस तरह वैर पैदा किये की वे एक दूसरे के साथ रहना तो दूर बल्कि एक दूसरे के खून के प्यासे हो गए । इसके अलावे जो कारण है उसमे मोह्हमद अली जिन्ना और महात्मा गांधी की गलतियां शामिल है ।

गांन्धी जी को गोली मारने वाला शख्स नाथू राम गॉड से ने अपनी अभिब्यक्ति मैंने गांधी को क्यों मारा लिखा है की जब भारत और पाकिस्तान का विभाजन हुआ तो विभाजन से करोड़ों लोग प्रभावित हुए। विभाजन के दौरान हुई हिंसा में करीब 10 लाख[3] लोग मारे गए और करीब 1.45 करोड़ शरणार्थियों ने अपना घर-बार छोड़कर बहुमत संप्रदाय वाले देश में शरण ली। और इन सब के पीछे गाँधी के लिए उस फैसले का हाथ था । 14 अगस्त को दो देशों के बिच खींची इस लकीर ने करोड़ों के तक़दीर को ही बदल के रख दी । विभाजन पर कई लेखकों ने अपनी कहानी लिखी है जो बेहद दर्दनाक और सत्य है . कल भले ही हम अपनी आजादी के गीत जाएंगे उसकी खुसिया मनाएंगे मगर यह भूलना नागवार गुजरेगी की इस ख़ुशी के पीछे इस आजादी के पीछे न जाने कितने गम ,आँशु ,और कई वर्षों की गुलामी लिखी है । बहरहाल आज के टुडेज स्पेशल में इतना ही कल लौंटेंगे आजादी के कुछ और अफ़साने ले कर तब तक के लिए देखते रहें टीडी न्यूज़ ।