बिहार के गोपालगंज जिले में शनिवार को धान की रोपनी करने के दौरान वज्रपात लोगों पर कहर बनकर टूटा

0
78

बिहार के गोपालगंज जिले में ये हादसा उस वक्त हुआ जब बारिश के दौरान ही कुछ लोग खेतों में धान की रोपनी कर रहे थे। बिजली इतनी तेज गति से गिरी कि किसी को संभलने तक का मौका नहीं मिला। इस घटना में एक दंपती की हालत काफी गंभीर बताई जा रही है।

गोपालगंज. गोपालगंज जिले के इस हादसे में जहां एक महिला की मौत हो गई वहीं दंपती समेत छह लोग झुलस गये। झुलसे हुए सभी लोगों को इलाज के लिए सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया। मृतक महिला की पहचान नगर थाना क्षेत्र के कररिया गांव निवासी शिव शंकर सहनी की पत्नी फूल कुमारी देवी के रूप में की गई है जबकि वज्रपात से झुलसे हुए लोगों में कररिया गांव निवासी हिम्मत रावत, इनकी पत्नी कृष्णावती देवी, उचकागांव थाने के बरारी जगदीश गांव निवासी राकेश कुमार, उर्मिला देवी, शांति देवी और सुगंधी देवी शामिल हैं।
परिजनों के मुताबिक फूल कुमारी देवी की मौत खेत में ही हो गयी थी,
लेकिन परिजन संतुष्टि के लिए सदर अस्पताल में पहुंचे थे, जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया वहीं अन्य लोगों को समय से अस्पताल परिजनों ने पहुंचा दिया, जिससे इलाज के बाद उनकी जान बचा ली गयी। जिला प्रशासन और मौसम विभाग की ओर से बारिश और वज्रपात को लेकर अलर्ट जारी किया गया था, इसके बावजूद लोग खेतों में पहुंच गये थे। प्रशासन ने मृतक के आश्रित को सरकार की ओर से मिलनेवाली मुआवजा राशि देने का आश्वासन दिया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर मृतक के आश्रित को मुआवजा राशि दी जायेगी।
दरसल हादसा के बाद पुलिस ने कररिया गांव की रहने वाली मृतक महिला फूल कुमारी देवी के शव को सदर अस्पताल से कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया वहीं बाकी के सभी छह लोगों का इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है। इमरजेंसी वार्ड के चिकित्सक डॉ सनाउल मुस्तफा के मुताबिक कररिया गांव के रहने वाले दंपती की हालत गंभीर है, बाकी सभी चार लोगों की हालत खतरे से बाहर है। परिजनों के मुताबिक सभी लोग बारिश को देखते हुए खेत में धान की रोपनी करने के लिए गये हुए थे। धान की रोपनी के दौरान दोपहर में आसमान से वज्रपात हुआ और इसमें एक महिला की मौत हो गयी।