बिहार की राजनीती में हलचल पार्टियों का टूटना बिखरना जारी

0
24

बिहार की राजनीति में भी आज कल कुछ अजीब ही हलचल देखने को मिल रही है ,खबर है की मुख्यमंत्री नितीश कुमार अपने पार्टी का संतुलनबनाने के लिए कुछ बदलाव करने जा रहे हैं । पिछले दिनों हुए मंत्रिमंडल विस्तार में JDU के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष RCP सिंह के मंत्री बन जाने के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष को लेकर संशय की स्थिति थी। सूत्रों की माने तो JDU के राष्ट्रीय अध्यक्ष की कमान मुंगेर से संसद ललन सिंह को सौपा जा सकता है वही उपेंद्र कुशवाहा प्रदेश अध्यक्ष की कमान सँभालते हुए नजर आ सकते हैं । दरसल नितीश कुमार अपने एक ब्यक्ति एक पद के नियम के कारन अपने पार्टी में कुछ बदलाव कर रहे हैं ।जिसमे ललन सिंह और उपेंद्र कुशवाहा में से एक को को राष्ट्रीय अध्यक्ष का भार सौपा जाएगा । बताया जा रहा है कि नीतीश कुमार राजनीतिक-सामाजिक-जातिगत समीकरण को बैलेंस करने के साथ-साथ पार्टी के सर्वोच्च पद पर अपने विश्वस्त को ही बैठाना चाहते हैं। यही कारण है कि ललन सिंह रेस में सबसे आगे हाे गए हैं और उपेंद्र कुशवाहा को प्रदेश अध्यक्ष का कमान संभालने को कहा जा सकता है । हालाँकि नितीश कुमार के तरफ से अभी तक कोई आधिकारिक घोषणा नहीं आई है ।
उधर दूसरी तरफ बीजेपी ने चिराग का दामन छोर चाचा पारस नाथ का हाथ पकड़ती हुई नजर आ रही है । दरअसल कल दिवगंत नेता राम विलास पासवान के छोटे भाई रामचंद्र पासवान की पुण्यतिथि मनाई गई। चिराग ने बिहार में और उनके चाचा पारस ने दिल्ली में पुण्यतिथि समारोह आयोजित किया था। इस मौके पर बिहार बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल पारस गुट की ओर से दिल्ली में आयोजित पुण्यतिथि समारोह में शामिल हुए। वहीं, चिराग पासवान ने अकेले ही कार्यक्रम का आयोजन किया। रिश्तेदार भी केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस के साथ नजर आए। हालाँकि ,चाचा और भतीजे के आपसी रंजिस में बीजेपी कभी किसी एक तरफ नहीं दिखी थी मगर कल पारस नाथ द्वारा आयोजित कार्यक्रम में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष का शामिल होना बहुत सी बातों के तरफ इशारा करता है । चिराग इस पुरे मैदान में अकेले ही नजर आ रहें हैं अब देखना यह होगा की चिराग अगला कदम क्या उठाते हैं ।