वैक्सीन लेने में यह गलती से आपको जान को है खतरा लापरवाही जान पर पड़ी भारी

0
126

लापरवाही जान पर पड़ी भारीः महिला को एक ही दिन में दो बार लगाई कोरोना की वैक्सीन, बेसुध हालत में यहां कराया गया भर्ती

जैसे-जैसे कोरोना वैक्सीनेशन के काम में तेजी आ रही है, वैसे-वैसे टीकाकरण केंद्रों पर बरती जा रही लापरवाही भी सामने आती जा रही है। झारखंड की उप राजधानी दुमका में कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर बड़ी लापरवाही सामने आई है।

बुधवार को वैक्सीन की पहली डोज के लिए पहुंची एक महिला को एक ही दिन में महज कुछ ही अंतराल पर दोबारा वैक्सीन लगा दी गई। इससे महिला की तबीयत बिगड़ गई। उसे एबुलेंस से स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया गया। अब महिला स्वस्थ है। इस मामले में एएनएम ने कहा कि भूलवश टीका लग गया होगा। हालांकि उससे कोई बुरा असर नहीं होगा। बताया जाता है कि तारामुनी देवी वैक्सीन लगवाने के लिए रामगढ़ प्रखंड के विकास भवन में पहुंची थीं। वह रामगढ़ प्रखंड की छोटी रणबहियार पंचायत के आलूबाड़ा गांव की रहने वाली हैं।

जब वैक्सीन लगवाने की बारी आई, तो एएनएम ने टीका लगा दिया। इस दौरान एएनएम को ध्यान नहीं रहा कि उसने वैक्सीन लगा दी है। फिर बिना पूछे दोबारा उसने एक और डोज दे दी। इसके बाद महिला बेसुध होने लगी। उसे देखरेख में रखा गया। फिर स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया। वहीं टीका देने वाली एएनएम का कहना है कि महिला को दो बार टीका नहीं दिया गया है। अगर भूलवश किसी तरह दो बार टीका लग गया होगा, तो कुछ कह नहीं सकते। टीका लगाने वाले सबका एक जैसा चेहरा लगता है। जिस महिला को टीका लगा है वह झूठ नहीं ही बोल रही होगी। अगर दो बार टीका लगा भी है, तो उससे स्वास्थ्य पर बुरा असर नहीं पड़ेगा।

इधर, वैक्सीनेशन की हुई लापरवाही को लेकर स्वास्थ्य विभाग मामले की लीपापोती में जुट गया है। एक तरफ रामगढ़ स्वास्थ्य चिकित्सा पदाधिकारी प्रभा हेंब्रम लापरवाही मान रही हैं, तो दूसरी तरफ दुमका के सीएस बच्चा प्रसाद सिंह सफाई दे रहे हैं। कहा कि रामगढ़ स्वास्थ्य केंद्र में 150 लाभार्थी के लिए 15 वाइल दिया गया था, जो 150 लोगों को लगा दिया गया है। जब डोज बची ही नहीं, तो एक व्यक्ति को दो बार टीका लगाने की बात कहां से आ गई।