तालिबान के लिए आसान नहीं पंजशीर पर कब्ज़ा करना

0
17

तालिबान के पुरे अफगान को अपने काबू में करने का सफर इतना आसान नहीं है ।तालिबान की नज़रें पंजशीर इलाके पर हैं, लेकिन इस ज़मीन को जीतना इतना आसान नहीं हैं। दरअसल तालिबान पहले भी वह कब्ज़ा करने की कोशिश कर चूका है मगर अहमद साह मसूद से तालिबानियों को हार का सामना करना परा था । और अब एक बार फिर तालिबान पंजशीर लेने की चाह में आगे बढ़ रहा है।

तालिबान के लिए पंजशीर पर कब्ज़ा करना इस बार भी आसान नहीं , क्यूंकि इस बार अहमद साह मसूद के वालिद शाह मसूद तालिबानियों के सामने खड़े है । ज्योग्राफिकल दृष्टिकोण से भी पंजशीर पर कब्ज़ा करना आसान नहीं दिख रहा है । दरअसल हिन्दुकश की पहाड़ियों के बीच मौजूद पंजशीर का इलाका एक अभेद्य किला है. ऊंचे पहाड़, संकरी वादियां और पंजशीर नदियां, इस इलाके को सुरक्षा देती हैं।. इस इलाके की ओर से जाने वाली हर सड़क पर नॉर्दर्न एलायंस के लड़ाके मौजूद मिलेंगे, जो ‘पंजशीर के शेर’ अहमद शाह मसूद को देख कर बढ़े हुए हैं ।