मुंबई के कई इलाके हुए जलमग्न ,तेज बारिश के कारण बनी बाढ़ की स्थिति ।

0
127

महराष्ट्र इन पर इन दिनों बारिश के कहर से त्रस्त है ।महाराष्ट्र में बारिश ने इस कदर कोहराम मचाया है की लोग जैसे तैसे खुद को और अपने परिवार को बचा रहें हैं । कुछ राज्यों में तो स्थिति ऐसी है की वहां जमीं नहीं नदियाँ ही दिख रही हैं ।महाराष्ट्र के कई इलाकों में बीते कुछ रोज से बारिश हो रही है । कल महाराष्ट्र के कोकण में तेज बारिश के कारन बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई है ।फिलहाल रातभर से बारिश रुकी होने की वजह से रत्नागिरी के खेड़ में जहां बाढ़ का पानी जमा हुआ था वह अब उतरने लगा है. चिपलूण में अब भी पानी भरा है. हजारों लोग अब भी फंसे हैं. वे लगातार अपने सरकार और अपने रिश्तेदारों से मदद की गुहार लगा रहें हैं । खासतौर पर रत्नागिरी और रायगढ़ में बारिश ने कहर बरपा रखा है. लगातार हो रही बारिश से रत्नागिरी के चिपलूण और रायगढ़ जिले के महाड में बाढ़ आ गई है. राहत और बचाव कार्य में एनडीआरएफ की टीमों को लगाया गया है।महाड में सावित्री नदी भी खतरे के निशान से ऊपर बहकर सब कुछ डुबा रही है. महाड और खेड में NDRF और कोस्टगार्ड की मदद ली जा रही थी.अब बचाव के लिए नौसेना की टीम भी पहुंची है. महाड से थोड़ा पहले दासगांव, टोल नाके के पास नौसेना की टीम अपने साथ लाए बोट पानी में उतारने की तैयारी कर रहे हैं.. इसके आगे सड़क पर भी पानी भरा है.।

Maharstra flood

जिन इलाकों में बरसात तेज हुई थी वहां पानी का बहाव इतना तेज था की भारी भरकम गाड़ियों के साथ घर भी बह गए ।बीतेकुछ दिनों में महाराष्ट्र के कई इलाकों में भूस्खलन की घटना देखि गई , जिसके वजह से घरों के गिरने और लोगों के मरने की खबर आई थी ।रत्नगिरी और रायगढ़ में पानी भरने से जहां मुंबई-गोवा महामार्ग बंद हो गया तो इगतपुरी के कसारा घाट में भारी बारिश से कहीं चट्टानें खिसकी तो कहीं रेल की पटरी बह गई. नतीजा मध्य रेलवे पर टिटवाला से इगतपुरी तक और अंबरनाथ से लोनावाला तक घंटों रेल यातायात बंद रहा। फिलहाल NDRF के टीम के साथ नौसेना भी बचाव कार्य में लगे हुए हैं । जिन इलाकों में बाढ़ आने की संभावनाएं हैं उन इलाकों को पहले ही खली करा लिया जा रहा है । हालाँकि लोग पहले ही भारी भरकम नुकसान झेल चुके हैं । अब देखना होगा महराष्ट्र सरकार इन बाढ़पीड़ितों की मदद किस प्रकार से करती है ।

यह भी देखें…