भारत में कोयले का संकट और भी गहराया ,जानिये आखिर क्यों हो रही है भारत में कोयले की कमी

0
12

भारत में कोयले की कमी एक बड़ी समस्या बनती जा रही है। देश में कोयले की कमी से बिजली की संकट भी उत्पन्न हो रही है इसके पीछे का कारन है की देश में ज्यादातर बिजली का उत्पादन कोयला से ही होता है। आकड़ों के मुताबिक़ देश के कई बिजली स्टेशनो पर कोयले का स्टॉक केवल दो से तीन तक का ही बचा हुआ है। हालाँकि ऊर्जा मंत्रालय ने यह दावा किया है की देश में कोयले की संकट को जल्द ही ख़तम कर दिया जाएगा और बिजली बंद करने तक की नौबत नहीं आएगी। कोयले की खपत और कमी को देखते हुए सरकार ने पिछले 27 अगस्त को एक कोर टीम का गठन किया था जो की हफ्ते में दो बार कोल स्टॉक की निगरानी और प्रबंधन का काम देखती है. इस कमेटी में ऊर्जा मंत्रालय, सीईओ, पोसोको, रेलवे और कोल इंडिया लिमिटेड के अधिकारी है।

कोलइंडिया ने भी का है की वह कोयले की डिस्पैच की मात्रा बढ़ाएगी। दरसल कोयले की यह कमी पिछली कुछ महीनो से ही देखि जा रही है इसके पीछे का कारन देखा जाए तो इसके कई कारण है। पहले कारन देखा जाए तो covid के बाद भारत की अर्थव्यवस्था में लगतार सुधार हो रही है जिसके लिए कारखानों में कोयले की खपत बढ़ गई है। इसके अलावे कोरोना के बाद कई सारे लघु उद्योग खुल चुके है जिससे कोयले की खपत काफी बढ़ गई है। दूसरा कारण यह की कोयला उत्खनन स्थलों पर काफी बारिश हुई है जिसके चलते भी कोयले के तुतखानां में काफी दिक्कत आ रही है। कई जगह तो यह बंद भी हो चूका है। इसके अलावे विदेशों से आयत कोलए की कीमतों में काफी बढ़ोतरी हो गई है जीसके कारण विदेशों से कोयले की आयात काफी काम हो गई है। कोयले की कमी को देखते हुए भारत ने ऑस्ट्रेलिया से कोयला खरीदा जो की चीन के बंदरगाह से होते हुए भारत आना था लेकिन ऑस्ट्रेलिया और चीन के आपसी रंजिश के वजह से वह अब तक चीन के बंदरगाह पर ही फसा हुआ है। हालाँकि भारत सर्कार ने कहा है की वह जल्द ही कुछ करेंगे। बहरहाल यह संकट कब तक रहेगी अब यह देखना होगा।