प्रकृति से मिलने गए थे ,प्रकृति ने हमेशा के लिए अपने पास बुला लिया ;कन्नौर भूस्खलन

0
227

प्रकृति कभी कभी इतनी कठोर हो जाती है की इसकी खूबसूरती फीकी परने लग जाती है ,प्रकृत्ति ने अपना ऐसा ही एक बिकराल रूप कल हिमांचल प्रदेश के कन्नौर जिले में दिखाया है,दरसल कल हिमांचल प्रदेश में हुए landslide में 9 टूरिस्टों की मौत हो गई । जो घर से तो निकले थे नेचर की खूबसूरती देखने पर उन्हें क्या पता था की नेचर इतनी कठोर हो कर उनपे बरसेगी की उन्हें अपने प्रकोप में ले लेगी । यह घटना कल यानी रविवार की है जब भूस्खलन के कारन पहाड़ से बड़े बड़े पत्थर के टुकड़े निचे गिरने लगे उसी में से एक बड़ा सा टुकड़ा एक टूरिस्ट बस पर गिरा जिसके वजह से उसमे बैठे ९ टूरिस्टों की जान चली गई । तस्वीरों में आप देख सकते हैं की बड़े बड़े पत्थरों के टुकड़े कैसे पहर से लुढ़कते हुए आ रहे हैं । इस हादसे में कई घर तबाह हो गए कई गाड़ियां बर्बाद हो गए और इस हादसे में सांगला घाटी में बना पूल भी तिनके की तरह ध्वस्त हो गया । लोगों ने इसकी वीडियो बना के सोशल मीडिया पर वायरल कर दी ।हादसे की खबर मिलते ही मौके पर रेस्क्यू टीम ने पहुँच कर राहत बचाव का काम किया मौके पर itbp के जवान भी मौजूद रहें ।

गौरतलब है की हिमांचल प्रदेश की राजधानी शिमला टूरिस्ट केंद्र है ,यहाँ की प्राकृतिक खूबसूरती को देखने के लिए दूर दूर से लोग आते है ,विदेशों से भी टूरिस्टों का आगमन होता है । टूरिस्ट बस पर पत्थर गिरने से जिन ९ लोगों की जान गई उसमे दिल्ली की एक आयुर्वेद की डॉक्टर डॉ दीपा शर्मा भी थी । दीपा ने कुछ घंटे पहले ही अपने ट्विटर हैंडल पर एक पोस्ट किया था जिसमे उन्होंने नेचर की खूबसूरती का जिक्र करते हुए लिखा था की there is no life without nature और कुछ घंटे बाद नेचर की ही गोद में समां गई । इससे पहले दीपा ने २४ जुलाई की सुबह को एक वीडियो पोस्ट किया था जिसमे उन्होंने लिखा की आज की सुबह कुछ यूँ गुजरी , दीपा के इन पोस्टों को देख कर जनता के मन में उनके प्रति करूँ भावना भी उत्पन्न हो रही है और लोगो एक दूसरे के बिच उनके तस्वीरों और वीडियो को शेयर कर रहें हैं
हादसे के बाद हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने ट्वीट करके कहा, ‘मैंने किन्‍नौर जिला प्रशासन से बात करके हादसे की जानकारी ली व उन्‍हें उचित दिशानिर्देश दिए। प्रशासन घटनास्‍थल पर राहत कार्य में जुट गया है तथा प्रभावितों को फौरी राहत प्रदान की जा रही है। घायल हुए व्‍यक्तियों को स्‍वास्‍थ्‍य लाभ शीघ्र प्राप्‍त हो, ईश्‍वर से यही कामना करता हूं।’ पीएम नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री राहत कोष से मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपये और घायलों को 50 हजार रुपये देने का ऐलान किया है।