महाप्रबंधक संजीव रंजन चिकित्सा सेवा आधारभूत संरचना निगम लिमिटेड पर स्पेशल विजिलेंस यूनिट की छापेमारी आय से पांच गुना अधिक की संपत्ति मिली है

0
80

पटना. बिहार चिकित्सा सेवा आधारभूत संरचना निगम लिमिटेड के महाप्रबंधक संजीव रंजन के ठिकाने पर स्पेशल विजिलेंस यूनिट की छापेमारी आय से पांच गुना अधिक की संपत्ति मिली है। दो दिन तक चली कार्रवाई में बैंक लॉकर्स की तलाशी भी ली गई। इसमें लाखों के गहने समेत अवैध लाखों रुपए के सबूत भी मिले हैं।
जैसे की टीम की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार संजीव रंजन के पास से टीम ने 1 करोड़ 76 लाख 72 हजार 907 रुपए की संपत्ति बरामद की है, जो संजीव रंजन की आय से काफी अधिक है। इतना ही नहीं SVU के मुताबिक यह प्रारंभिक आंकड़ा है, जो मूल्यांकन के बाद और बढ़ सकता है।

बेनामी संपत्ति का आंकड़ा बढ़ सकता है
स्पेशल विजिलेंस यूनिट के अफसरों की मानें तो आय से अधिक संपत्ति के इस मामले में अभी और खुलासे होने बाकी हैं। फिलहाल जो संपत्ति सामने आई है, वह प्रारंभिक जांच का परिणाम है। इसका आंकड़ा और बढ़ सकता है। आर्थिक अपराध इकाई और SVU भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति पर काम कर रही हैं। भ्रष्टाचार के आरोप में घिरे बड़े-बड़े लोकसेवकों के खिलाफ लगातार कार्रवाई की जा रही है। जांच एजेंसियों के निशानों पर अभी कुछ और नाम भी हैं, जिनके बारे में अभी जानकारियां इकट्‌ठी की जा रही हैं। पर्याप्त जानकारी मिलने के बाद उन अफसरों पर भी आकस्मिक कार्रवाई की जा सकती है।

दरसल् छापेमारी के दौरान आरोपी संजीव रंजन के आशियाना स्थित बैंक लॉकर को खंगाला गया तो उसमें 15 लाख रुपए के स्वर्ण आभूषण के अलावा पत्नी के नाम से रखे 40 लाख रुपए की राशि बैंक खाते में मिली। वहीं घर की तलाशी में SVU ने दो किलो चांदी और आशियाना स्थित फ्लैट से चार लाख रुपए भी बरामद किए हैं।