पानी की टंकी 25 फिट ऊंची थी और दोपहर के कारण गर्मी भी तेज थी.

0
46

सारे अधिकारी नीचे खड़े होकर गुणवत्ता की जांच कर रहे थे. लेकिन जांच से संतुष्ट नहीं होने पर जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार ने पानी की टंकी पर दनादन चढ़ना शुरू कर दिया. पानी टंकी पर डीएम के चढ़ जाने के बाद उनके साथ के अभियंता और अधिकारियों के चेहरे मुर्झा गए. वे लोग भी पीछे से चढ़ने की कोशिश करने लगे, तब तक डीएम जांच कर नीचे उतर आए.

सासाराम. रोहतास जिले के डीएम धर्मेंद्र कुमार इन दिनों चर्चा में हैं. अपने फुर्तीले अंदाज के साथ वे लगातार योजनाओं की जांच के लिए गांव-गांव पहुंच रहे हैं. इस जून की तपती दोपहर में भी वे गांव की पगडंडियों पर सरकारी योजनाओं की जांच कर रहे हैं. इसी जांच के दौरान जब रोहतास के डीएम धर्मेंद्र कुमार भरी दोपहरिया में दिनारा के हरिवंशपुर पंचायत पहुंचे, तो उन्हें नल-जल योजना की गड़बड़ी की शिकायत मिली. स्थानीय अधिकारियों और अभियंता से पूछने पर बताया गया कि पानी की टंकी सही तरीके से लगाई गई है.

चूंकि पानी की टंकी 25 फिट ऊंची थी और दोपहर के कारण गर्मी भी तेज थी, सारे अधिकारी नीचे खड़े होकर गुणवत्ता की जांच कर रहे थे. लेकिन जांच से संतुष्ट नहीं होने पर जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार ने पानी की टंकी पर दनादन चढ़ना शुरू कर दिया और एक झटके में टंकी के ऊपर पहुंच गए. पानी टंकी पर डीएम के चढ़ जाने के बाद उनके साथ खड़े अभियंता और अन्य कई अधिकारियों के चेहरे मुर्झा गए. वे लोग भी पीछे से चढ़ने की कोशिश करने लगे, तब तक डीएम खुद पूरे मामले की जांच कर नीचे उतर आए.

5 अधिकारियों के वेतन पर रोक
डीएम धर्मेंद्र कुमार ने सीएम नीतीश कुमार की महत्वाकांक्षी योजना ‘हर घर नल का जल’ में गड़बड़ी पाए जाने पर दिनारा के प्रखंड विकास पदाधिकारी, प्रखंड पंचायत राज पदाधिकारी, संबंधित अभियंता के अलावे 5 अधिकारियों के वेतन पर रोक लगा दी है और जल्द से जल्द रिपोर्ट देने का आदेश दिया. इसके अलावा इलाके के तमाम पानी की टंकियों की जांच कर उसका वीडियो बनाकर उपलब्ध कराने का निर्देश दिया.

दरअसल इस भीषण गर्मी में पानी की टंकी पर चढ़कर जांच करने से डीएम की कार्यशैली चर्चा का विषय बन गई है. आसपास के इलाके के कई पंचायतों के जनप्रतिनिधि अब खुद इस योजना को धरातल पर लागू कराने में लग गए हैं. बता दें कि जिला प्रशासन के इस सख्त रवैया से गड़बड़ी करने वालों में हड़कंप मच गई है. उधर डीएम धर्मेंद्र कुमार की इस कार्यशैली से हिंदी फिल्म ‘शोले’ में वीरू बने धर्मेंद्र का टंकी पर चढ़ना लोगों को याद आ गया.