बिहार में भ्रष्टाचार के खिलाफ इन दिनों बड़े पैमाने पर अभियान छेड़ रखा है.

0
113

निगरानी विभाग ने 76 लाख 24 हजार 582 रुपये आय से अधिक संपत्ति का केस अपने थाने में दर्ज किया था. इसके बाद शनिवार को छापेमारी अभियान चलाया गया. अब तक की छापेमारी में निगरानी विभाग ने बिहार से बंगाल तक में मिली रजिस्ट्रार की करोड़ों की आय से अधिक संपत्ति का खुलासा कर दिया है.

पटना. निगरानी विभाग की टीम ने बिहार में भ्रष्टाचार के खिलाफ इन दिनों बड़े पैमाने पर अभियान छेड़ रखा है. इसी कड़ी में शनिवार को कटिहार के जिला अवर निबंधक जय कुमार के 5 ठिकानों पर छापेमारी की. पटना, कटिहार, पूर्णिया और सिलीगुड़ी स्थित आवास और कार्यालय पर एक साथ छापेमारी अभियान चलाया गया. बिहार से बंगाल तक हुई इस छापेमारी में अकूत संपत्ति का पता चला है.

बता दें कि निगरानी विभाग ने 76 लाख 24 हजार 582 रुपये आय से अधिक संपत्ति का केस अपने थाने में दर्ज किया था. इसके बाद शनिवार को छापेमारी अभियान चलाया गया. छापेमारी में 5 ठिकानों से 10 लाख 80 हजार नगद और करीब 29 लाखों रुपए के जेवरात भी मिले. इसमें सोने के 3 बिस्किट और सोने के 2 टुकड़े भी शामिल हैं. यूनियन बैंक ऑफ इंडिया पटना में दो लॉकर का भी पता चला है. इन लॉकरों की तलाशी बाद में ली जाएगी. इसके अलावा एक पॉलिसी में 1 लाख 38 हजार 513 रुपये के वार्षिक निवेश का भी पता चला है. जमीन के कुल 4 डीड जब्त किए गए हैं. यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में करीब 25 लाख रुपए जमा पाए गए हैं.

सिलीगुड़ी में फ्लैट के अलावा 6 डिसमिल जमीन होने का भी पता चला है, जिसे डेवलपर को कन्वर्जन पर दिया गया है. जय कुमार द्वारा अपने रिश्तेदारों को 34 लाख रुपए कर्ज के रूप में दिए जाने के भी साक्ष्य मिले हैं. पत्नी संगीता देवी के नाम पर दानापुर और पूर्णिया के अलावा पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी में जमीन के कागजात मिले हैं.