कोरोना के जंग में भारत को अमेरिका का साथ

0
431

देश में बढ़ती कोरोना के मामलों में देश की राजधानी दिल्ली दूसरे नंबर पर है । पिछले 24 घंटे में दिल्ली में अब तक सबसे ज्यादा 380 लोगों की मौत हो । दिल्ली के मुख्यमंत्री के अरविंद केजरीवाल ने केंद्र से ऑक्सीजन की मांग की थी। जिसकी पूर्ति करते हुए केंद्र सरकार ने आज सुबह 4:00 बजे 4 कंटेनरों में 70 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की सप्लाई की है, जिससे दिल्ली में कोरोना मरीजों को राहत मिलेगी। छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिंदल स्टील प्लांट से ऑक्सीजन की सप्लाई की गई थी जो आज सुबह 4 बजे ऑक्सीजन एक्सप्रेस द्वारा दिल्ली जंक्शन पर पहुंची है। बताया जा रहा है की इन ऑक्सीजन की सप्लाई दिल्ली NCR के निजी अस्पतालों में की जाएगी , जहां ऑक्सीजन की कमी से सबसे ज्यादा लोगों की मौतें हुई हैं।

 

दिल्ली में ऑक्सीजन की सप्लाई होने से हालात सुधरने की उम्मीद की जा रही है ।

वहीं देश की वित्तीय राजधानी मुंबई कोरोना के मामले में पहले नंबर पर है मुंबई में प्रतिदिन 70000 से अधिक मरीजों की खबर आ रही थी परंतु सख़्त पाबंदियों के बाद इस संख्या में कमी नजर आ रही  है । पिछले 24 घंटे में मुंबई में कोरोना मरीजों की संख्या 48 हज़ार के क़रीब आई है।

 इस आंकड़े को देखते हुए यह उम्मीद की जा रही है कि आने वाले समय में यह संख्या और भी कम होगी। वह पिछले 24 घंटे में कोरोना से 524 लोगों की जानें जा चुकी है।

कोरोना के मझधार में भारत को तैरते देख अमेरिका  मदद के लिए आगे बढ़ा है । अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने भारत के मौजूदा हालात पे कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से फोन पर लम्बी बात की । जिसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर के जो बाइडेन को मदद के लिए शुक्रिया कहा और लोगों की जानकारी दी की कोरोना के इस जंग में अमेरिका भी अब हमारे साथ है । फोन पर बात चीत के दौरान दोनों नेताओं में ऑक्सीजन वेंटिलेटर को लेकर लंबी चर्चा हुई । साथ ही वैक्सीन के कच्चे माल पर भी बातचीत हुई ।

कोरोना जैसी महामारी से निपटने में अमेरिका जैसे शक्तिशाली देश का साथ देना निश्चित रूप से एक अच्छी खबर है । पिछले कुछ हफ्तों में वैक्सीन के लिए कच्चे  माल की सप्लाई न करने की बात पे सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा फूट रहा था परंतु  भारतीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के अमेरिकी सुरक्षा सलाहकार से बातचीत के बाद अमेरिका कच्चे माल के सप्लाई के साथ साथ भारत के हर विकट परिस्थिति में साथ देने की बात कही है । 

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने ट्वीट कर के यह बताया की , ” भारत अमेरिकी के बुरे समय पे उसका साथ दिया था और अब जब भारत कोरोना के मार से त्रस्त है तो अमेरिकी सरकार उसकी हर संभव मदद करेगा ।”

 विश्व के सबसे शक्तिशाली देश के राष्ट्रपति का इस प्रकार के ट्वीट यह साबित करता है की भारत पिछले कुछ वर्षों में एक शक्तिशाली देश के रूप में उभरा है ।

सुमित साहित्य