केंद्रीय बजट 2022 23 से बिहार को मिलेगा लाभ, पटना सहित इन जिलों में दौड़ेगी विकाश की लहर

0
124

कल केंद्रीय वित् मंत्री नीर्मला सीतारमण ने देश के लिए वर्ष २०२२ तथा २३ के लिए आम बजट पेश किया है। जिसमे राज्यों के विकाश के लिए निर्धारित राशि भी निहित है। इस आम बजट में छोटे शहरों के विकास पर जोड़ दिया गया है। इस बजट से बिहार के भी कुछ शेरोन के विकास की रफ़्तार तेज हो सकती है। दरअसल केंद्र सरकार ने देश के टू और थ्री टीयर वाले शहरों के विकास पर फोकस करते हुए बड़ी पहल की है। इससे बिहार के भी कुछ शहरों को फायदा होने वाला है। केंद्र सरकार के टू और थ्री टीयर वाले शहरों में बिहार के कईशहर आते हैं। बिहार की राजधानी पटना भी तैयार टु की श्रेणी में आता है। इसके अलावे बिहार के कुछ अन्य शहर जैसे सासाराम, बक्सर, औरंगाबाद, बिहारशरीफ, बेगूसराय, भागलपुर, पूर्णिया, सहरसा, दरभंगा, मधुबनी, सीतामढ़ी, बेतिया, मोतिहारी, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज, छपरा, हाजीपुर समेत अन्य जिला मुख्यालय वाले शहरों को भी इस योजना का लाभ मिलने की उम्मीद है।

केंद्र सरकार के छोटे शहरों के विकास वाले योजना से बिहार को काफी फायदा होने वाला है। केंद्र सरकार ने इस बजट के तहत यह लक्ष्य रखा है की पटना और बिहार के अन्य टु ,थ्री टियर वाले जिलों में भविष्य में आधुनिक और व्यवस्थित सुविधाओं का लाभ मिले। इसके साथ ही इस बजट में राज्यों के निवेश को ध्यान में रखते हुए राज्यों को १ लाख करोड़ की राशि आवंटित की गई है। ग्रामीण इलाको में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 48 हजार करोड़ रुपयेका आवंटन किया जाएगा। इन सबके अलावे राज्यों को सौर मॉडूल के लिए १९५०० किअतिरिक्त राशि राज्यों को दी जायेगी। यानी इन सब योजनाओ के तहत बिहार के भी विकास की सिमा तय होगी। बिहार में माध्यम और छोटे शहरों के विकाश के लिए लिए उच्च स्तरीय समिति बनाई जाएगी। इस समिति के तहत शहरों इ विकास समबन्धी रूप रेखा तैयार किया जाएगा। इन समितियों में शहर के अर्थशात्री और विशेषज्ञों की टीम होगी। यह समिति शहर के विकाश का ढांचा तैयार करेगी साथ ही उसे जमीं पर उतारेगी भी। केंद्र सरकार ने यह आंकलन किया है की २०४७ तक देश की आधी आबादी शहरों में रहेगी अतः उनके भविष्य को ध्यान में रखतेहुए उन्हेंआधुनिक सुविधाएं प्रदान की जाए इसके लिए देश अभी से कार्य करना पड़ेगा। बहरहाल इस बजट से बिहार के शहरों के विकास की उम्मीद लगाई जा रही है।