आखिर किसने बनाया BULLI BAI APP ,जिसपे हो रही थी मुश्लिम महिलाओं की नीलामी , समझिये पूरा माजरा।

0
181

बुल्ली बाई एप्प मामले में दिल्ली पुलिस ने जांच करते हुए एक और गिरफ्तारी की है। दिल्ली पुलिस ने इस मामले से जुड़े एक और साक्ष की गिरफ्तारी की है। गिरफ्तार शख्स एक क्रिकेटर है।आरोपी का नाम नीरज बिश्नोई (NIRAJ VISHNOI) है. उसकी उम्र 21 साल बताई गई है. बिश्नोई वीआईटी भोपाल में इंजीनियरिंग का सेकंड ईयर का छात्र है। पुलिस ने अब तक इस मामले में 4 लोगों की गिरफ्तारी की है। इसमें श्वेता सिंह(SHWETA SINGH), विशाल कुमार(VISHAL KUMAR) और मयंक रावल (MAYANK RAVAL) को गिरफ्तार किया जा चूका है और अभी भी इससे जुड़े लोगों की तलाश जारी है। गौरतलब है की अब तक जितने भी लोगों की ग्रिफ्तारी हुई है उनमे सारे 21 से 23 साल के बिच ही हैं।

आखिर क्या है BULII BAI APP ?

विवादों में आई बुल्ली बाई एप्प क्यों इतनी चर्चा में है आइये हम बताते हैं दरअसल बुल्ली बाई एप्प गीत हब पर बनाया गया एक एप्प है जिसपर मुश्लिम महिलाओं को टारगेट का उनकी नीलामी की बोली लगाई जा रही थी।बुली बाई ऐप के जरिए मुस्लिम समुदाय की महिलाओं की तस्वीरें लगाकर उनकी कथित तौर पर बोली लगाने का आरोप है।जिन महिलाओं को टारगेट किया जा रहा है उनमे ज्यादातर महिलायें सोशल मीडिया पर एक्टिव रहती हैं। उनके सोशल मीडिया पर पोस्ट तस्वीरों को डाउनलोड कर के बुल्ली बाई एप्प पर उस तस्वीर के जरिये बोली लगाईं जाती है।

पहले भी बन चूका है ऐसा AAP.

यह पहली बार नहीं है जब इस तरह की कोई आपराधिक गतिविधि को अंजाम दिया गया है। बुल्ली बाई एप्प के पहले गीत हब पर ही २०२० में एक एप्प को होस्ट किया गया था जिसका नाम सुल्ली डील्स रखा गया था। महिलाओं द्वारा इस एप्प को घेरा गया था उनका कहना था की इस एप्प के जरिये मुश्लिम महिलाओं की नीलामी की जाती थी। पुलिस ने इस मामले की भी जांच कर उस एप्प को बंद करवाया था। और अब एक बार फिर बुल्ली बाई के जरिये उन्ही आपराधिक गतिविशियों का अंजाम दिया जा रहा था। इस एप्प को भी गिटहब पर ही लांच किया गया था।

क्या है GITHUB ?

अब आपके मन में एक और सवाल घूम रहा होगा की यह गिटहब क्या है जिसपे बुल्ली और सुल्ली जैसे एप्प को लांच किया गया है तो दरसल गिटहब एक सॉफ्टवेयर डेवेलपर है। यह एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहाँ पर आप Web Development, Software Development, Ethical Hacking, Coding Language सिख सकते हैं और अपना एप्प तैयार कर सकते हैं। यह एक अमेरिकन कंपनी है जिसको 8 फरवरी 2008 में Tom Preston-Werner, Chris Wanstrath और PJ Hayett ने मिलकर बनाया था जो एक Software Industry है इस में कई प्रकार के Software बनाए जाते है और इससे बहुत से Developers जोड़े हुए है। भारत सरकार गिटहब पर भी गाज गिरा सकती है।
श्वेता सिंह ही है मास्टरमाइंड

कौन है इस एप्प का मास्टरमाइंड ?

इस एप्प के पीछे का मास्टरमाइंड श्वेता सिंह को बताया जा रहा है जिसकी उम्र महज २१ साल है। श्वेता उत्तराखंड के ऊधमसिंह नगर नगर के जिला मुख्यालय रुद्रपुर की निवासी है और 12 वीं पास है। इसके अलावे विशाल कुमार और मयंक रावल और नीरज विश्नोई इंजीनियर्स हैं। पॉलिश ने जब श्वेता से पूछ ताछ की तो उसने विशेष समुदाय के खिलाफ काफी नाराजगी व्यक्त की। पुलिस को दिए गए बयान के अनुसार श्वेता ने कहा कि हिंदुओं के साथ बड़ी से बड़ी घटना हो जाती है जिसका जिक्र सिर्फ स्थानीय स्तर पर ही लोग करते हैं, जबकि विशेष समुदाय के लोगों के साथ छोटी सी भी घटना होती है तो लोग उसे बहुत प्रिजरती देते हैं । देश के एक युवा के अंदर इस तरह की सामुदायिक द्वेष इस बात का संकेत है की इन युवाओं को बरगलाने का काम किया जा रहा है

किसने की शिकायत ?

दरअसल इस मामले की शिकायत दिल्ली की एक महिला पत्रकार ने किया था जिसके बाद सुचना और प्रोधोगिक मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा था की बुल्ली बाई एप्प बनाने वाले यूजर को गिटहब पर ब्लॉक कर दिया गया है। मगर सवाल यह है की आखिर बुल्ली बाई एप्प पर मुश्लिम महिलाओं की बोली लगा कौन रहा है। पुलिस ने इस मामले की जांच कर अब तक चार लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। इस मामले में अब तक कई महिलाओं ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है।