तमिलनाडु सरकार ने पेश की अपनी दलील , मुश्किलों से जल्दी नहीं छूट पाएंगे मनीष कश्यप ।

0
209

यूट्यूबर मनीष कश्यप की गिरफ़्तारी और तमिलनाडु सरकार द्वारा NSA लगाए जाने के बाद आज एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट मे सुनवाई हुई है जिसमे तमिलनाडु सरकार ने मनीष कश्यप पर NSA लगाने के कारण मे तीन दलीलें पेश की । आपकों बता दें की चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया डीवाई चंद्रचूर और पीएम नरसिंहा ने तमिलनाडु सरकार से एक आफ़िडेविड जमा कर मनीष कश्यप पर NSA लगाए जाने का कारण पूछा था । जिसके बाद तमिलनाडु सरकार ने आज की सुनवाई मे मनीष कश्यप के खिलाफ NSA लगाने के लिए तीन कारण दिए ।

पहला कारण : मनीष कश्यप ने तमिलनाडु निवाक्षियों पर यह आरोप लगाया की वह प्रवासियों को मार के वापस भागा रहें हैं । और इसके लिए उन्होंने गलत विडिओ क्लिप का प्रयोग किया है । जो संप्रदीयक हिंसा भरकाने का काम करती है ।

दूसरा कारण : तमिलनाडु सरकार ने अपने दूसरे कारण मे बताया की मनीष कश्यप अपने तमिलनाडु यात्रा के दौरान प्रवासियों से जान बुझ कर उकसाने वाले सवाल किया । जो की उनके सवालों से साफ पता चलता है ।

तीसरा कारण : मनीष कश्यप ने फेक न्यूज फैलाने का काम किया और विडिओ से छेड़ छाड़ किया । जो की आपराधिक गतिविधि है ।

क्या है मामला ?

दरअसल मनीष कश्यप अपने तमिलनाडु यात्रा के दौरान एक पब्लिक बाइट लिया था जिसमे कथित तौर पर बिहारी मजदूरों को तमिलनाडु के निवासियों के द्वारा मारने तथा सहोसहन करने की बात काही थी साथ ही एक विडिओ भी डाली थी जो बाद मे फेक शबीत हुई । जिसके बाद तमिलनाडु सरकार ने मनीष कश्यप पर एक याचिका दायर की ओर गिरफ़्तारी की मांग की । पहले बिहार पोलिस ने मनीष कश्यप को गिरफ्तार किया फिर उसे तमिलनाडु पुलिस के हवाले कर दिया । इसके अलावे मनीष कश्यप पर 6 मामलों मे बिहार मे भी एफआईआर दर्ज है ।

मनीष काशयप्प की क्या है मांग ?

घटना के बाद तमिलनाडु के सरकार ने मनीष कश्यप पर एनएसए लगा दिया है । अब मनीष कश्यप का कहना है की उन पर लगाए गए आरोप गलत है । उनका कहना है की बिहार और तमिलंडू मे दर्ज मामलों को क्लब कर दिया जाए साथ ही उन्हे बेल दी जाने की मांग की है ।