गजब की देशभक्ति ; देश के लिए मर मिटने को तैयार विश्व में प्रशिद्ध दो मुक्केबाज। कभी ग्लव्स से देश के लिए लड़ चुके ये मुक्केबाज अब गन से लड़ने को हैं तैयार।

0
309

कौन कहता है की देश पर मर मिटने के लिए सेना की वर्दी पहननी पड़ती है। सच कहते हैं की एक सच्चे देश भक्त को देश के दुश्मनो से लड़ने के लिए वर्दी की जरुरत नहीं होती है। आज पुरे विश्व की नजर रूस और यूक्रेन के आपसी विवाद से उठे युद्ध के धुएं के तरफ है। हर देश इस धुएं के ख़त्म होने की दुआ मांग रहा है। एक तरफ रूस यूक्रेन को घुटने टेकने पर मजबूर कर रहा है तो वही यूक्रेन भी रूस से डट का मुकाबला कर रहा है।

देश के लिए मर मिटने को तैयार यूक्रेन की जनता

गौरतलब है की यूक्रेन जैसे एक छोटे शहर पर रूस जैसे एक बड़ी शक्ति का यूँ बर्चस्व दिखाना पुरे विश्व को अच्छा नहीं लग रहा। दोनों तरफ से सेनाएं लड़ रही हैं और यूक्रेन इस युद्ध में धीरे धीरे कमजोड़ होता दिखाई दे रहा है। हालाँकि यूक्रेन खुद को शक्तिशाली और मजबूत बताने और जताने में कोई कसार नहीं छोड़ रहा जिसमे उसकी जनता उसका साथ दे रही है। यूक्रेन की जनता अब रूस के खिलाफ हाथों में हथियार ले कर खड़ी हो गई है। क्या महिलायें और क्या पुरुष किसी को भी अपने देश के भीतर घुसपैठियों का आना बर्दाश्त नहीं है।

महिलाओं ने भी उठाये हथियार

यूक्रेन के कई महिलाओं ने अपने हाथों में AK 47 ले रुसी सेना के खिलाफ लड़ने को तैयार हो गए हैं। यूक्रेन के आर्मी कैम्पों में देश पर मर मिटने वाले सिविलियन्स की एक लम्बी कतार लगी हुई है । सिविलियन्स के अलावे यूक्रेन के कई दिग्गजों ने भी रुसी सेना के सामने हाथ में हतियार ले कर उतरने का फैसला कर रहें है .

क्लिट्सचको ब्रदर्स ने भी उठाया हथियार

इसी क्रम में बॉक्सीन के दुनिया में विश्व भर में नाम कमा चुके दो दिग्गज मुक्केबाज विटाली क्लिट्स्चको और उनके भाई व्लादिमीर क्लिट्सचको ने अब ग्लोव्स के जगह बन्दुक थाम कर घुसपैठिये रूस के सेना के सामने अपनी आखरी सांस तक लड़ने का फैसला लिया है। दोनों ने कहा की पहले भी वह देश के लिए लड़ें हैं और अब भी लड़ेंगे फर्क बस इतना होगा की बॉक्सिंग रिंग की जगह यह लड़ाई देश की मिटटी देश की धरती पर होगी। आपको बता दे की विटाली क्लिट्स्चको एक प्रोफ़ेसनल बॉक्सर होने के साथ ही एक यूक्रेनियन पॉलिटिशियन भी है उन्होंने क्यॉव शहर के मेयर का पद भी संभाला है। क्लिट्स्चको ब्रोठेर्स के इस देशभक्ति को देख कर यूक्रेन के निवासियों नेभी अपने देश भर पर मिटने के लिए तैयार हो रहें हैं। अब देखना होगा की इनके जज्बे और हौसले रुसी सेना पर किस तरह भाड़ी पड़ते हैं।